फ़ुटबॉल से कैसे फ़र्क पड़ता है

फ़ुटबॉल से कैसे फ़र्क पड़ता है

time:2021-10-21 06:43:32 पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस 5-7% कर्मचारियों की छंटनी करेगी Views:4591

लाइव लाठी कार्ड गिनती फ़ुटबॉल से कैसे फ़र्क पड़ता है betway जैकपॉट भविष्यवाणी,fun88 w88 m88,lovebet 509,lovebet सुरक्षित है,lovebet टोकन,365 बैकरेट डाउनलोड,बैकरेट बैंकर संभावना,बैकारेट पीएनजी,मराठी में पांच अर्थों में से सर्वश्रेष्ठ,सी शतरंज,कैसीनो एन.बी,शतरंज एल हॉफ़र,क्रिकेट केक डिजाइन,क्रिकेटर आर पी सिंह,यूरोपीय कप फुटबॉल बेबी वीडियो,फुटबॉल कैश बेटिंग नेटवर्क,जुआ बोनस,खुश किसान नेवार्क,प्यार में,जैकपॉट कैसीनो के खेल ऑनलाइन,नवीनतम बी फुटबॉल सट्टेबाजी नेटवर्क,लाइव गेम ऑनलाइन,लॉटरी एमएन,एम स्पोर्ट्स डायरेक्ट,ऑनलाइन कैसीनो डचलैंड,दोस्तों के साथ ऑनलाइन गेम,ऑनलाइन स्लॉट भुगतान प्रतिशत,पोकर चौथा कार्ड,पोकर यूट्यूब कैसे खेलें,रूले उद्धरण,रम्मी हैक मॉड APK,एस स्पोर्ट्स लाइव,स्लॉट रोशनी फिल्म,खेल की अंगूठी,तीन पत्ती लूट,लॉटरी सारांश,वर्चुअल क्रिकेट मैच,Wildz.de कोस्टेनलोस स्पीलें,rummy इन हिंदी,करुणा बारिश की बीमारी,खजाना कटोरा,जैकपॉट पिक्चर,पोकर खेल क्या है,बारात अभिनन्दन पत्र,रिले मशीन,स्टेटस भाई, .पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस 5-7% कर्मचारियों की छंटनी करेगी

कंपनी के कारोबार में काफी कमी आई है. खर्च घटाने के लिए उसने यह रास्‍ता अपनाया है.
कोलकाता : पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस अपने 5-7 फीसदी कर्मचारियों की छंटनी करने जा रही है. कंपनी के कारोबार में काफी कमी आई है. खर्च घटाने के लिए उसने यह रास्‍ता अपनाया है. इस तरह पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस भी उन कंपनियों में शामिल हो गई है जिन्‍होंने पिछले छह महीनों में अपने कर्मचारियों की संख्‍या घटाई है.

कर्मचारियों की छंटनी की खबर ऐसे समय आई जब एक महीने पहले ही हरदयाल प्रसाद ने कंपनी में चीफ एग्‍जीक्‍यूटिव का पद संभाला है. उन्‍होंने अंतरिम प्रमुख नीरज व्‍यास की जगह ली है.

इसे भी पढ़ें : पुराने कर्मचारियों को नौकरी पर बुला रही हैं आईटी कंपनियां

मामले से जुड़े लोगों ने बताया कि कंपनी ने 80-100 लोगों को इस्‍तीफा देने के लिए कहा है. कर्ज देने वाली इस कंपनी का मार्केटकैप 4,863 करोड़ रुपये का है. इस पर 68 हजार करोड़ रुपये का लोन बकाया है. छंटनी से पहले देश के विभिन्न राज्‍यों में इसके 1500 कर्मचारी थे.

इस मामले पर ईटी के सवाल के जवाब में कंपनी ने कहा, ''हम अपने संसाधनों को दोबारा एलोकेट करने की प्रक्रिया में हैं. इसका मकसद पीएनबी हाउसिंग को सतत ग्रोथ की राह पर ले जाना है. इन कोशिशों में बहुत मुश्किल फैसले लेने पड़ रहे हैं. कार्यबल में सीमित संख्‍या में बदलाव भी इसका हिस्‍सा है. हालांकि, बताई गई संख्‍या सही नहीं है. यह बढ़ाचढ़ाकर दिखाई गई है.''

इसे भी पढ़ें : दो साल में इन 8 क्षेत्रों में होंगे नौकरी के खूब मौके

क्‍या कंपनी ने अपने सीनियर मैनेजमेंट को सालाना बोनस और इंक्रीमेंट दिया है, इस सवाल के जवाब में पीएनबी हाउसिंग ने कहा, ''कोरोना की महामारी से उपजी असाधारण स्थितियों के चलते कंपनी पहली तिमाही में ऐसा कर पाने में असमर्थ थी. अभी इसकी समीक्षा की जा रही है. समय के साथ इसके बारे में एलान किया जाएगा.''

पूंजी की कमी के चलते कंपनी का कारोबार पिछले साल से ही घटना शुरू हो गया था. जून तिमाही में डिस्‍बर्समेंट (लोन वितरण) 91 फीसदी घटकर 694 करोड़ रुपये रह गया. पिछले साल की इसी अवधि में यह 7,634 करोड़ रुपये था.

32.7 फीसदी होल्डिंग के साथ पीएनबी इस कंपनी की प्रमोटर है. उसने बीते महीने मॉर्गेज लोन देने वाली कंपनी में 600 करोड़ रुपये की पूंजी डालने का एलान किया था. कंपनी तरजीही आवंटन या शेयरों के राइट्स इश्‍यू के जरिये भी 1800 करोड़ रुपये की पूंजी जुटाने के बारे में विचार कर रही है.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

पीएनबी हाउसिंग फाइनेंसकर्मचारियों की छंटनीकोरोना की महामारीपीएनबीछंटनी

ETPrime stories of the day

Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival
Recent hit

Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival

11 mins read
Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?
Electric vehicles

Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?

10 mins read
Kisan Credit Card is critical for agriculture. But can the scheme overcome the challenges?
Agriculture

Kisan Credit Card is critical for agriculture. But can the scheme overcome the challenges?

7 mins read

सामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है.अच्‍छे इंक्रीमेंट के लिए अभी दो साल करना पड़ेगा इंतजार : एक्‍सपर्ट्स

फ्रेंकलिन टेंपलटन के इंडियन मैनेजमेंट ने घरेलू कारोबार के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई थी.बाजार नियामक सेबी ने एक्सपेंस रेशियो की सीमा तय की हुई है. ओपन एंडेड इक्विटी स्कीम के एयूएम के आधार पर सेबी ने विभिन्न स्‍लैब बनाए हैं.अच्‍छे इंक्रीमेंट के लिए अभी दो साल करना पड़ेगा इंतजार : एक्‍सपर्ट्स

कर्मचारियों की छंटनी की खबर ऐसे समय आई जब एक महीने पहले ही हरदयाल प्रसाद ने कंपनी में चीफ एग्‍जीक्‍यूटिव का पद संभाला है. उन्‍होंने अंतरिम प्रमुख नीरज व्‍यास की जगह ली है.सितंबर में समाप्त तिमाही में कंपनी के कर्मचारियों की संख्या 2,40,208 थी. कंपनी अपने जूनियर कर्मचारियों को तीसरी तिमाही में एकबारगी विशेष प्रोत्साहन देगी.इंफोसिस के कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, नए साल से बढ़ेगा वेतन

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
लॉटरी 6 5 2021

एनालिटिक्‍स संबंधी जॉब्‍स निकालने वाली कंपन‍ियों में एक्‍सेंचर, एमफेसिस, कग्निजेंट टेक्‍नोलॉजी सॉल्‍यूशन, केपजेमिनी, इंफोसिस, टेक महिंद्रा, आईबीएम इंडिया, डेल, एचसीएल टेक्‍नोलॉजी और कोलेबरा टेक्‍नोलॉजी प्रमुख हैं.

बैकरेट कार्ड रीडर

अधिकतर निवेशक इक्विटी फंड्स में निवेश करने के लिए सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (सिप) को तरजीह देते हैं. हाल के समय में सिप को बहुत अधिक लोकप्रियता मिली है.

ऑनलाइन बेटिंग यूआरएल

रिपोर्ट में कहा गया है कि अनलॉक उपायों के बाद आवाजाही में सुधार से रियल एस्टेट क्षेत्र में नियुक्ति गतिविधियां 44 फीसदी सुधरी हैं.

परि रापा

शेयरों में निवेश से जुड़े जोखिम के अलावा इंटरनेशनल फंड में निवेश से करेंसी का जोखिम भी जुड़ा होता है. दूसरे देश की मुद्रा के मुकाबले रुपये में कमजोरी और मजबूती का असर आपके रिटर्न पर पड़ता है.

राम या 2 . के स्लॉट

सैलरी कब अपने स्‍तर पर लौटेंगी, यह आर्थिक गतिविधियों के बहाल होने पर निर्भर करेगा. डेलॉयट के सर्वे में शामिल 75 फीसदी संस्‍थानों ने मौजूदा अनिश्चितता को देखते हुए वेतनवृद्धि में किसी तरह के अनुमान जाहिर करने से इंकार कर दिया.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी