करीना जिंदाबाद

करीना जिंदाबाद

time:2021-10-21 08:05:24 ओएनजीसी के शेयरों में क्‍यों निवेश की सलाह दे रहे हैं विश्लेषक? Views:4591

बैकारेट सॉफ्टवेयर के विश्लेषण के तरीके क्या हैं करीना जिंदाबाद 188bet भविष्यवाणी,ek Patti बैंक,lovebet 2 वेर गेविनंट,lovebet फ्री बेट,lovebet रिव्यू इंडिया,lovebetफ 2. रूंडे,बैकारेट 35 मि.ली,बैकरेट स्तरित 60-स्तरीय सट्टेबाजी विधि,पांच कारों का सबसे अच्छा परिवार,भ स्पोर्ट्सके नोवोस्ती,कैसीनो मुक्त साइन अप बोनस,चैंपियंस लीग फुटबॉल बेकहम,क्रिकेट 4k चित्र,क्रिकेट शू,एस्पोर्ट्स बांग्ला में अर्थ,फुटबॉल ३डी,फुटबॉल विश्व कप क्लासिक गेम,एच क्रिकेट खिलाड़ी,पैसे खोए बिना बैकारेट कैसे खेलें,क्या जंगल रम्मी भरोसेमंद है,जंगल रम्मी जिम्बाब्वे,लाइव कैसीनो लुक फू,लॉटरी ई परिणाम,लूडो मोबाइल लीग,स्लॉट्स गेम,ऑनलाइन गेम फ्री फायर,ऑनलाइन रियल मनी माहजोंग,पीएचसी स्लॉट,पोकर प्रश्नोत्तरी प्रश्न,रूले एपीके डाउनलोड,रम्मी 2014,रम्मीकल्चर केवाईसी चेंज,स्लॉट पहियों,खेल जी.के. सवालों के जवाब के साथ,स्टैंड-अलोन गेमिंग डाउनलोड,जीतने के लिए सबसे अच्छा कैसीनो,यूईएफए चैंपियंस लीग सॉकर गेम,कौनसा अच्छा है?,21 बजे www,ऑनलाइन पैसे बनाएं na,क्रिकेट खेळाची माहिती,गोवा शहर दिखाओ,तीन पत्ती वाला पौधा,बरसा शास्त्री के भजन,भाग्यशाली बिल्ली,स्टेटस ऐटिटूड गर्ल, .ओएनजीसी के शेयरों में क्‍यों निवेश की सलाह दे रहे हैं विश्लेषक?

31 में से 23 विश्लेषक इस शेयर में खरीद की सलाह दे रहे हैं. 4 का कहना है कि इसे होल्ड करना चाहिए.
अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल (क्रूड) की कीमत मजबूत हुई है. इसके साथ ही ओएनजीसी में विश्लेषकों की दिलचस्पी भी कई गुना बढ़ गई है. अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में कंपनी का औसत रियलाइजेशन (प्राप्ति) 43 डॉलर प्रति बैरल रहा. लिहाजा, हाल में कच्चे तेल की कीमतों में उछाल से ओएनजीसी को फायदा हो सकता है. मध्यम अवधि में क्रूड की कीमत 50 डॉलर से 70 डॉलर प्रति बैरल के बीच स्‍टेबल रह सकती है. तेल निर्यात करने वाले देशों के संगठन ओपेक के हस्तक्षेप से ऐसा हो सकता है. पिछली बैठक में सऊदी अरब ने खुद से उत्पादन में रोजाना 10 लाख बैरल की कमी जारी रखने पर सहमति जताई थी. दूसरे देशों ने भी उत्‍पादन नहीं बढ़ाने पर हामी भरी थी.

पिछले 10 साल में ओएनजीसी अपने उत्पादन में कोई बड़ी बढ़ोतरी करने में नाकामयाब रही है. निवेशकों की चिंता का यह बड़ा विषय था. हालांकि, विश्लेषक कहते हैं कि ओएनजीसी प्रोडक्‍शन के स्‍तर को कायम रखने में सफल रही है. जबकि दूसरी अपस्ट्रीम ऑयल कंपनियां ऐसा नहीं कर सकीं. यही कारण है कि ओएनजीसी की कुल प्रोडक्‍शन में हिस्सेदारी पिछले 10 साल में 53 फीसदी से बढ़कर 70 फीसदी हो गई.

इसे भी पढ़ें : नई व्हीकल स्क्रैपेज पॉलिसी का आपके लिए क्‍या है मतलब?

ओएनजीसी का क्रूड ऑयल प्रोडक्‍शन स्थिर बने रहने के आसार हैं. 2022-23 तक ओएनजीसी की अपना घरेलू गैस उत्पादन 0.3 एमएमएससीएमडी (मिलियन मेट्रिक स्‍टैंडर्ड क्‍यूबिक मीटर्स रोजाना) बढ़ाकर 8-9 एमएमएससीएमडी कर लेने की योजना है. 2023-24 तक 15 एमएमएससीएमडी तक पहुंचाने की तैयारी है.

मोजांबिक में ओएनजीसी विदेश और ऑयल इंडिया समर्थित ऑनशोर एलएनजी डेवलपमेंट की अच्छी प्रगति है. रोवुमा ऑफशोर एरिया-1 प्रोजेक्ट ने हाल में पहला चरण पूरा कर लिया है. वह प्रोजेक्ट के लिए अपने कर्जदारों से पैसा पाने के लिए तैयार है.

इसे भी पढ़ें : सुकन्‍या समृद्धि योजना के बारे में जानिए अपने हर सवाल का जवाब

ऑयल और गैस सेक्टर की कंपनियों के लिए सरकार का हस्तक्षेप मुख्य चुनौती रही है. पेट्रोलियम प्रोडक्‍टों को जीएसटी व्यवस्था में शामिल करने की मांग बढ़ रही है. वैसे, पेट्रोल और डीजल पर जीएसटी लागू होने की संभावना अभी कम है. विश्लेषकों को उम्मीद है कि सरकार आने वाले वर्षों में घरेलू प्राकृतिक गैस के मूल्य में मौजूद विसंगति को दूर करेगी. इसके चलते घरेलू उत्‍पादन को नुकसान होता है. इसके बाद ओएनजीसी को उसकी घरेलू प्राकृतिक गैस के लिए अच्‍छी दरें प्राप्‍त होंगी.

ओएनजीसी अभी उचित वैल्यूएशन पर कारोबार कर रही है. विश्लेषकों का इस शेयर में आकर्षण बढ़ने का यह भी एक कारण है. इसकी कमाई में बड़ी बढ़ोतरी होने की उम्मीद है. 31 में से 23 विश्लेषक इस शेयर में खरीद की सलाह दे रहे हैं. 4 का कहना है कि इसे होल्ड करना चाहिए. 4 ने ही इसमें बिक्री की राय दी है.

master6

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टॉपिक

ONGC share priceओएनजीसी शेयर प्राइसन‍िवेश की सलाहउत्‍पादनक्रूडविश्‍लेषकों की रायओएनजीसी

ETPrime stories of the day

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’
Strategy

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’

8 mins read
Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle
Aviation

Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle

10 mins read
Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.
Banking

Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.

15 mins read

जब संस्‍थान में किसी कर्मचारी को नौकरी छोड़ने के लिए कहा जाता है तो वे आमतौर पर चौंक जाते हैं. लेकिन, कई मामलों में इसके संकेत पहले से मिलने लगते हैं. बात सिर्फ इतनी होती है कि कर्मचारी इन संकेतों का मतलब समझकर सुधार की दिशा में कदम नहीं उठा पाते हैं. आइए, यहां ऐसे ही कुछ संकेतों के बारे में जानते हैं.अगर आप फुलटाइम घर से काम कर रहे हैं और आपकी कंपनी टेलीफोन, इंटरनेट, प्रिंटिंग और स्‍टेशनरी जैसे कुछ खर्चों को रीइंबर्स कर रही है तो आपको इन खर्चों पर टैक्‍स देने की जरूरत नहीं है.आईटी और रिटेल सेक्‍टर में मार्च में हुईंं ज्‍यादा भर्तियां : रिपोर्ट

आपको अपनी स्किल्‍स का पैसा मिलता है. इस बात का पता करें कि आप जैसी स्किल रखने वाले लोगों को बाहर कितनी सैलरी मिल रही है.अगले साल मई तक आईटी, आईटीईएस और बीपीओ सेक्‍टर में कर्मचारियों के ऑफिस वापसी का लेवल कोरोना से पहले के स्‍तर के 50 फीसदी तक पहुंच सकता है.मुझे महीने में 40,000 रुपये म्‍यूचुअल फंडों में निवेश करना है, किन स्‍कीमों में लगाऊं?

नौकरी जॉबस्पीक्स इंडेक्स की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, डिजिटल बदलाव की लहर में सूचना प्रौद्योगिकी-सॉफ्टवेयर क्षेत्र लगातार इससे बचा हुआ है.पिछले 10 साल में ओएनजीसी अपने उत्पादन में कोई बड़ी बढ़ोतरी करने में नाकामयाब रही है.कंस्‍ट्रक्‍शन सेक्‍टर में दिहाड़ी मजदूरी बढ़ी, यह है वजह

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
जन्मदिन मुबारक हो किसान उद्धरण

इंडेक्‍स फंडों की तरह ईटीएफ अमूमन किसी खास मार्केट इंडेक्स को ट्रैक करते हैं. इनका प्रदर्शन उस इंडेक्‍स जैसा होता है.

लियोवेगास कोटियुटुकसेन केस्टो

विशेषज्ञों का कहना है कि औद्योगिक कमोडिटीज में निवेश से सोने के मुकाबले बढ़िया रिटर्न मिल सकता है

दिल्ली धमाका lottery.com

एक साल पहले इस फंड के अनुभवी मैनेजर ने इस्तीफा दिया. हालांकि, स्‍कीम की बागडोर मजबूत प्रबंधन के हाथों में है. निवेश के तरीके में कोई बड़ा बदलाव नहीं हुआ है.

एक प्रतिष्ठित गेमिंग साइट का पासवर्ड

समय गुजरने के साथ उन्‍हें इक्विटी में निवेश कम कर देना चाहिए. इसके बजाय धीरे-धीरे डेट फंडों की ओर रुख करना चाहिए.

सट्टेबाजी कंपनियों की रैंकिंग

अपने साथ की प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले डॉ रेड्डीज लैब का वैल्यूएशन कम है. साथ ही बैलेंसशीट भी मजबूत है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी