• micro-blog
  • WechatWechat QR code

गुआनडोंग प्रांतिय लोक्स सरकार का होम पृष्ठ  >  News trends  >  Guangdong highlights

लूडो हैक

स्रोत: Nanfang Daily Online Edition     time: 2021-10-21 06:39:50

भारत शर्त संपर्क नंबर लूडो हैक 188bet विकी,fun88 डेयर सैमी,lovebet ३ वे हॉकी,lovebet घाना ऐप डाउनलोड,lovebet सिस्तेमा 6/8,lovebetोयिनी हकीदा,बैकारेट 7 पीस नाइफ सेट की समीक्षा,बैकरेट मास्टर फोरम,सर्वश्रेष्ठ पांच बजे छाया ट्रिमर,बोनस कैसीनो बोनस कोड,कैसीनो होटल कोच्चि,टांकेएस 3डी छवियां,क्रिकेट एक जीमेल अकाउंट,क्रिकेट वर्दी डिजाइन,एस्पोर्ट्स रैंकिंग,फ़ुटबॉल 90 मिनट,मुफ़्त 3 रील स्लॉट गेम,खुश अफ्रीकी किसान,बैकारेट कैसे दबाएं,क्या कोई औपचारिक ऑनलाइन बैकरेट मंच है?,के स्पोर्ट्स ऐप,लाइव कैसीनो असली पैसा,लॉटरी अनुमान,अंग्रेजी में लूडो उद्धरण,ऑनलाइन बैकरेट जुआ घोटाला,ऑनलाइन खेल खेल कर पैसे कमाए,ऑनलाइन स्लॉट डेलावेयर,आभासी क्रिकेट खेलें,पोकर ट्रै अमीसी ई लीगल,रूले खेल नियम,रम्मी 6 जुगाडोरेस एल कोर्टे इंग्लेस,रम्मीकल्चर प्ले स्टोर,स्लॉट 7 कैसीनो,खेल की चोट,टा फुटबॉल क्लब,टाइम्स स्क्वायर में क्रिकेट,v स्लॉट मेरे पास,कौन सा ऑनलाइन रियल मनी गेम बेहतर है?,cricket के बारे में जानकारी,ओंकार लॉटरी,क्रिकेट डाउनलोडिंग,घाटोल फुटबॉल का मैच,त्रिपुरा लाटरी सम्बाद,बरसात क्षेत्र,रमी अकाउंट मीनिंग इन हिंदी,स्टेटस घमंड, ,इंटरनेशनल फंड के बारे में जानिए अपने हर सवाल का जवाब

  


  

इंटरनेशनल फंड के बारे में जानिए अपने हर सवाल का जवाब

  इंटरनेशनल फंड के बारे में जानिए अपने हर सवाल का जवाब

टैक्स के लिहाज से इंटरनेशनल फंड को वही दर्जा हासिल है, जो डेट म्यूचुअल फंड का है. इस फंड में तीन साल से कम समय तक निवेश बनाए रखने पर निवेशक को इसके मुनाफे पर शॉर्ट टर्म कैपिटल गेंस टैक्स देना पड़ता है.
पिछले कुछ समय से इंटरनेशनल फंड की बहुत चर्चा हो रही है. इसकी वजह इन फंडों में निवेशकों की बढ़ती दिलचस्पी है. हालांकि, अब भी निवेशकों को ऐसे फंड़ों के बारे में बहुत ज्यादा जानकारी नहीं है. इंटरनेशनल फंड का मतलब क्या है? क्या इन फंडों में निवेश का क्या फायदा है? क्या आपको इस फंड में निवेश करना चाहिए? आइए इन सवालों का जवाब जानने की कोशिश करते हैं.

इंटरनेशनल फंड में आपको क्यों निवेश करना चाहिए?
जोखिम घटाने के लिए इक्विटी म्यूचुअल फंडों के पोर्टोफोलियो का डायवर्सिफिकेशन जरूरी है. डायवर्सिफिकेशन का मतलब अलग-अलग तरह के फंडों में निवेश है. कई बार भारतीय अर्थव्यवस्था का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहता है, जबकि विदेशी बाजार का प्रदर्शन अच्छा होता है. दुनिया के कई बाजारों का भारत से ज्यादा संबंध नहीं है. ऐसे में इंटरनेशनल फंड में निवेश से डायवर्सिफिकेशन में मदद मिलती है. इससे आपका जोखिम घट जाता है.

निवेशकों के लिए इंटरनेशनल फंड में निवेश के लिए कौन-कौन से विकल्प हैं?
आज भारतीय निवेशकों के लिए इंटरनेशनल फंड के कई विकल्प हैं. ये देश, क्षेत्र, थीम और टेक्नोलॉजी पर आधारित हैं. कोई भारतीय निवेशक रुपये में इन इंटरनेशनल फंडों में निवेश कर सकता है. आप सामान्य म्यूचुअल फंड की तरह इंटरनेशनल फंड का चुनाव कर उसमें ऑनलाइन या ऑफलाइन निवेश कर सकते हैं.

इंटरनेशनल फंड किस तरह विदेशी शेयरों में निवेश करते हैं?
भारतीय बाजार में मौजूद इंटरनेशनल फंड सीधे विदेशी कंपनियों के शेयरों में या विदेश के दूसरे फंडों में निवेश करते हैं. दूसरे फंडों में निवेश को फीडर रूट कहा जाता है. यह एक तरह से फंड ऑफ फंड की तरह है.

यह भी पढ़ें : एनपीएस में निवेश की उम्र सीमा बढ़कर हो सकती है 70 साल!

इंटरनेशनल फंडों के रिटर्न पर किस तरह टैक्स लगता है?
टैक्स के लिहाज से इंटरनेशनल फंड को वही दर्जा हासिल है, जो डेट म्यूचुअल फंड का है. इस फंड में तीन साल से कम समय तक निवेश बनाए रखने पर निवेशक को इसके मुनाफे पर शॉर्ट टर्म कैपिटल गेंस टैक्स देना पड़ता है. टैक्स की दर निवेशक के टैक्स स्लैब के अनुसार होती है. तीन साल से ज्यादा वक्त तक फंड में निवेश बनाए रखने पर निवेशक को इंडेक्सेशन का फायदा मिलता है. इसकी वजह यह है कि इसे लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस माना जाता है. इंडेक्सेशन के बाद टैक्स की दर 20 फीसदी होती है.

क्या इंटरनेशनल फंड में निवेश करने में बहुत जोखिम है?
शेयरों में निवेश से जुड़े जोखिम के अलावा ऐसे फंड में निवेश से करेंसी का जोखिम भी जुड़ा होता है. दूसरे देश की मुद्रा के मुकाबले रुपये में कमजोरी और मजबूती का असर आपके रिटर्न पर पड़ता है. भारत में निवेशक रुपये में निवेश करता है. लेकिन, म्यूचुअल फंड कंपनी को उस देश की मुद्रा में इंटरनेशनल फंड में निवेश करना पड़ता है, जहां का वह फंड होता है. इसलिए इंटरनेशनल फंड में निवेश करने से पहले आपको करेंसी में होने वाले उतार-चढ़ाव के जोखिम के लिए तैयार रहना होगा.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

इंटरनेशनल फंडडेट फंडइक्विटी म्यूचुअल फंडम्यूचुअल फंडफंड ऑफ फंड

ETPrime stories of the day

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’
Strategy

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’

8 mins read
Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle
Aviation

Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle

10 mins read
Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.
Banking

Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.

15 mins read

बुजुर्गों को मिले ज्‍यादा ब्‍याज, एससीएसएस की लिमिट बढ़ाकर ₹50 लाख की जाए

सामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) वैश्विक स्तर पर ऊर्जा संकट के बीच भारत ने अपने सबसे बड़े गैस आपूर्तिकर्ता कतर से 2015 के 50 एलएनजी कार्गो की आपूर्ति अब करने को कहा है। छह साल पहले इसे काफी अधिक महंगा माना गया था। देश की सबसे बड़ी तरलीकृत गैस आयातक पेट्रोनेट एलएनजी ने कतर से 2022 में उन 50 कार्गो की आपूर्ति करने को कहा है, जिसे उसने 2015 में नहीं लिया था। कंपनी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) अक्षय कुमार सिंह ने सेरा वीक के इंडिया एनर्जी फोरम में अलग से यह जानकारी दी।एनपीएस में निवेश की उम्र सीमा बढ़कर हो सकती है 70 साल!

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) दुनिया के तीसरे सबसे बड़े ऊर्जा उपभोक्ता देश भारत ने बुधवार को आगाह करते हुए कहा कि तेल की ऊंची कीमतें शुरुआती और नाजुक वैश्विक आर्थिक पुनरुद्धार पर प्रतिकूल असर डालेंगी। भारत ने सऊदी अरब और ओपेक (तेल निर्यातक देशों के संगठन) के अन्य सदस्य देशों से सस्ती और भरोसेमंद आपूर्ति की दिशा में काम करने को कहा। साथ ही भारत ने दीर्घकालीन आपूर्ति अनुबंधों का विचार रखा। इससे भरोसेमंद और स्थिर कीमत व्यवस्था सुनिश्चित हो सकेगी। पेट्रोलियम मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने सेरा वीक के ‘इंडिया एनर्जी फोरम’ मेंनेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) में लोगों की दिलचस्पी बढ़ाने की कई कोशिश की जा रही है.नियमित आमदनी के लिए इन पांच विकल्प में निवेश कर सकते हैं सीनियर सिटीजन

नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) में लोगों की दिलचस्पी बढ़ाने की कई कोशिश की जा रही है.शेयरों में निवेश से जुड़े जोखिम के अलावा इंटरनेशनल फंड में निवेश से करेंसी का जोखिम भी जुड़ा होता है. दूसरे देश की मुद्रा के मुकाबले रुपये में कमजोरी और मजबूती का असर आपके रिटर्न पर पड़ता है.भारत ने कतर से 2015 के एलएनजी कार्गो की अब आपूर्ति मांगी



Relevant reports:lovebet inloggen
Relevant reports:एस्पोर्ट्स पोस्टर
Relevant reports:ऑनलाइन गेम रैंकिंग
Relevant reports:लॉटरी प्ले भाग लक्ष्मी
Relevant reports:188bet नेट एप्लिकेटिवो
Relevant reports:शतरंज 101
Relevant reports:ज्ञान क्रिकेट
Relevant reports:पूल रम्मी एक्सटेंशन
Relevant reports:lovebet समाचार
Relevant reports:पैरिमैच अंग्रेजी
Relevant reports:रूले चार्ट
Relevant reports:प्रेरित आभासी क्रिकेट
Relevant reports:मैरीलैंड में लाइव कैसीनो
Relevant reports:कैसीनो जेड लॉगिन
Relevant reports:खुश किसान संगीत पत्र
Relevant reports:apk
Relevant reports:बरसात लगने लगा है डर
Relevant reports:रम्मी ३ए
Relevant reports:क्रिकेट mazza exch
Relevant reports:नेल्सन क्रिकेट बुक ए नेट
Relevant reports:lovebet यूरोकोपा
Relevant reports:वे देश जहां जुआ कानूनी है
Relevant reports:आईपीएल का फुल फॉर्म हिंदी में
Relevant reports:ई-स्पोर्ट्स स्कॉलरशिप
Relevant reports:कैसीनो या क्यूबेका
Relevant reports:रम्मी 500 ऑनलाइन
Relevant reports:नकद असली पैसा रूले

【font:large in Small
प्रतिलिपि अधिकार: दक्षिण न्यूज नेटवर्कगुआनडोंग आईसीपी तैयार 05070829 website identification code 4400000131
Sponsor: नान्फांग न्यूज़र नेटवर्क co sponsor: Guangdong Provincial Economic and Information Technology Commission contractor: Nanfang news network
1024 is recommended × Browser with 768 resolution above IE7.0