जी स्लॉट

जी स्लॉट

time:2021-10-28 05:04:44 हरियाणा में खाद की कोई कमी नहीं: कृषि मंत्री Views:4591

टेक्सास होल्डम याहू जी स्लॉट betway ओनर,डाउनलोड,lovebet 903,lovebet कोबे,भारत में lovebet उपयोगकर्ता,एक बैकारेट परिभाषा,बैकारेट कार्ड काउंटिंग चीट्स,बैकरेट रोड पेपर डाउनलोड क्षेत्र,बेस्ट वाइब्रम फाइव फिंगर्स,कैश एक्सचेंज बोर्ड गेम्स,कैसीनो गौरव 2,शतरंज v,क्रिकेट एक्सचेंज,डेज़ इन कैसीनो लास वेगास,यूरोपीय कप मकाऊ,फ़ुटबॉल मुक्त पसंदीदा,जैकपॉट सिटी जैसे खेल,हैप्पी हैलोवीन किसान,इंडिबेट समीक्षा,बेटिका पर जैकपॉट का खेल,लाइव बैकरेट अथॉरिटी,लाइव रूले इमर्सिव,लॉटरी क्यूआर कोड,मेगा फन88,ऑनलाइन कैसीनो नौकरी,ऑनलाइन लाइव शतरंज और कार्ड गेम,उच्चतम rtp . के साथ ऑनलाइन स्लॉट,पोकर आओ विवो होजे,पूल रम्मी मतलब,रूले यवेस मैरियट,रमी मोबाइल ऑफर,शॉपिंग ई स्पोर्ट्स xaxim,स्लॉट रूम नो डिपॉजिट बोनस,खेल घड़ियाँ,तीन पत्ती असीमित चिप्स APK,सबसे प्रतिष्ठित जुआ वेबसाइट,वीआर रम्मीकल्चर,विश्व कप जर्मनी बनाम अर्जेंटीना,असली पैसे का खेल whatsapp,कैटरीना वाला गाना,खेलो पर जुआ meaning in hindi,जोकर तू है दिलबर जानी,फुटबॉल इन हिंदी नाम,बेटा ओने क्सल २५,लाटरी फैक्स रिजल्ट,स्टेटस हिंदी लाइफ attitude, .हरियाणा में खाद की कोई कमी नहीं: कृषि मंत्री

चंडीगढ़, 27 अक्टूबर (भाषा) हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जे पी दलाल ने बुधवार को कहा कि राज्य में उर्वरकों की कोई कमी नहीं होगी।

उन्होंने कहा कि राज्य को जल्द ही केंद्र सरकार से डीएपी (डायमोनियम फॉस्फेट) उर्वरक के छह और रैक मिलेंगे।

उन्होंने यहां एक बयान में कहा कि किसानों को अगली फसल की बुवाई के लिए तैयार रहना चाहिए।

उन्होंने कहा कि किसानों को समय पर खाद मिल जाएगी।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य पर फसलों की खरीद कर रही है।

उन्होंने किसानों से जैविक डीएपी उर्वरक का उपयोग करने को कहा। उन्होंने कहा कि इसके इस्तेमाल से किसानों को बोई गई फसलों और सब्जियों का उचित मूल्य मिलेगा।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के सहयोग से राज्य में गोबर से तैयार की गई जैविक खाद की एक बड़ी मात्रा उपलब्ध कराई जाएगी, जिससे गौशालाओं के लिए भी अच्छी आय का स्रोत पैदा होगा।

कृषि मंत्री ने कहा कि रबी की अगली फसल 2021-22 के दौरान राज्य में करीब 11 लाख टन यूरिया की जरूरत होगी।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के पास पहले से ही लगभग 2.60 लाख टन यूरिया उपलब्ध है। इसमें से अब तक 90,000 टन से अधिक किसानों को उपलब्ध कराया जा चुका है।

दलाल ने कहा कि राज्य में अगली रबी फसल 2021-22 के दौरान लगभग तीन लाख टन डीएपी उर्वरक की आवश्यकता है।

राज्य सरकार के पास अभी तक करीब 1.38 लाख टन डीएपी खाद उपलब्ध है। इसमें से 1.10 लाख टन डीएपी खाद किसानों को दी जा चुकी है।

कृषि मंत्री ने कहा कि रबी फसलों 2021-22 के लिए लगभग एक लाख टन एसएसपी उर्वरक की आवश्यकता है।

अभी तक राज्य सरकार के पास लगभग 75,886 टन एसएसपी उर्वरक उपलब्ध है। इसमें से 39,975 टन एसएसपी उर्वरक राज्य के किसानों को उपलब्ध कराया गया है।

उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष 1-27 अक्टूबर के दौरान किसानों को लगभग 13,380 टन एसएसपी उर्वरक उपलब्ध कराया गया था।

कृषि मंत्री ने कहा कि प्रदेश की अनाज मंडियों में अब तक करीब 44.40 लाख टन धान आ चुका है. इसमें से 43.61 लाख टन धान की खरीद हो चुकी है।

(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)
(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)

ETPrime stories of the day

As Christmas nears, China’s biggest shipper says there’s no end in sight for supply-chain crisis
Logistics

As Christmas nears, China’s biggest shipper says there’s no end in sight for supply-chain crisis

4 mins read
China’s hypersonic missile test may be targeted at the US and the West. But India should be worried.
R&D

China’s hypersonic missile test may be targeted at the US and the West. But India should be worried.

9 mins read
As drones take off under fresh rules, insuring their flight still has a host of teething troubles
Insurance

As drones take off under fresh rules, insuring their flight still has a host of teething troubles

11 mins read

डिजिटल इकनॉमी में नए टैलेंट की जरूरत होगी. आइए, यहां टॉप रिक्रूटमेंट फर्मों से उन स्किल्‍स के बारे में जानते हैं जो सबसे ज्‍यादा डिमांड में हैं.नयी दिल्ली, 27 अक्टूबर (भाषा) अडाणी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकनॉमिक जोन (एपीएसईजेड) ने अगले साल जून तक म्यामां में अपने निवेश से बाहर निकलने की घोषणा की है। एपीएसईजेड देश की सबसे बड़ी बंदरगाह विकास कंपनी है। यह विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत अडाणी समूह की इकाई है।अडाणी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकनॉमिक जोन ने दूसरी तिमाही के नतीजों के बाद कहा, ‘‘कंपनी के निदेशक मंडल ने म्यामां में निवेश से बाहर निकलने की योजना पर सक्रियता से काम करने का फैसला किया है। यह कार्य मार्च-जून, 2022 तक पूरा हो सकता है।’’ एपीएसईजेड ने इस साल अगस्त में कहा थासैलरी के इन कंपोनेंट को समझ लें तो टैक्‍स बचत में होगी आसानी

नयी दिल्ली, 27 अक्टूबर (भाषा) आईटीसी लि. का चालू वित्त वर्ष की सितंबर में समाप्त दूसरी तिमाही का एकीकृत शुद्ध लाभ 10.09 प्रतिशत बढ़कर 3,763.73 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी ने 3,418.69 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था। शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कंपनी ने कहा कि तिमाही के दौरान उसकी परिचालन आय 12.14 प्रतिशत बढ़कर 14,662.59 करोड़ रुपये पर पहुंच गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 13,075.14 करोड़ रुपये थी। तिमाही के दौरान कंपनी का कुल खर्च 11.93 प्रतिशत बढ़कर 10,258.26 करोड़ रुपयेनयी दिल्ली, 27 अक्टूबर (भाषा) सरकार ने बुधवार को प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद (ईएसी-पीएम) के मौजूदा चेयरमैन विवेक देबरॉय के अंतर्गत ईएसी-पीएम का पुनर्गठन किया।पुनर्गठन के तहत परिषद से वी अनंत नागेश्वरन को हटा दिया गया है। जबकि राकेश मोहन (आरबीआई के पूर्व डिप्टी गवर्नर), पूनम गुप्ता (नेशनल काउंसिल ऑफ एप्लायड एकोनॉमिक रिसर्च की महानिदेशक) और टी टी राम मोहन (प्रोफेसर, भरतीय प्रबंधन संस्थान, अहमदाबाद) को ईएसी-पीएम के अंशकालिक सदस्य के रूप में नियुक्त किया गया है। परिषद के अन्य अंशकालिक सदस्यों में साजिद चेनॉय, नीलकंठ मिश्रा और नीलेश शाह शामिल हैं। मंत्रिमंडल सचिवालय ने 27राज्य ऊर्जा दक्षता सूचकांक में राजस्थान दूसरे स्थान पर

नौकरी जॉबस्पीक्स इंडेक्स की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, डिजिटल बदलाव की लहर में सूचना प्रौद्योगिकी-सॉफ्टवेयर क्षेत्र लगातार इससे बचा हुआ है.डिजिटल इकनॉमी में नए टैलेंट की जरूरत होगी. आइए, यहां टॉप रिक्रूटमेंट फर्मों से उन स्किल्‍स के बारे में जानते हैं जो सबसे ज्‍यादा डिमांड में हैं.सिर्फ 10% कर्मचारी ऑफिस लौटे : रिपोर्ट

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
पैसे देने के लिए पंजीकृत बैकारेट

अगले साल मई तक आईटी, आईटीईएस और बीपीओ सेक्‍टर में कर्मचारियों के ऑफिस वापसी का लेवल कोरोना से पहले के स्‍तर के 50 फीसदी तक पहुंच सकता है.

इलेक्ट्रॉनिक खेल kharita

नयी दिल्ली, 27 अक्टूबर (भाषा) सरकार ने बुधवार को प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद (ईएसी-पीएम) के मौजूदा चेयरमैन विवेक देबरॉय के अंतर्गत ईएसी-पीएम का पुनर्गठन किया।पुनर्गठन के तहत परिषद से वी अनंत नागेश्वरन को हटा दिया गया है। जबकि राकेश मोहन (आरबीआई के पूर्व डिप्टी गवर्नर), पूनम गुप्ता (नेशनल काउंसिल ऑफ एप्लायड एकोनॉमिक रिसर्च की महानिदेशक) और टी टी राम मोहन (प्रोफेसर, भरतीय प्रबंधन संस्थान, अहमदाबाद) को ईएसी-पीएम के अंशकालिक सदस्य के रूप में नियुक्त किया गया है। परिषद के अन्य अंशकालिक सदस्यों में साजिद चेनॉय, नीलकंठ मिश्रा और नीलेश शाह शामिल हैं। मंत्रिमंडल सचिवालय ने 27

कैसिनोविटा टी

(योषिता सिंह)संयुक्त राष्ट्र, 27 अक्टूबर (भाषा) संयुक्त राष्ट्र मौसम एजेंसी की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत को चक्रवाती तूफान, बाढ़ और सूखे जैसी मौसमी घटनाओं से औसतन करीब 87 अरब डॉलर का सालाना नुकसान होने का अनुमान है। विश्व मौसम विज्ञान संगठन ने मंगलवार को ‘एशिया में जलवायु की स्थिति,2020’ रिपोर्ट जारी की, जिसमें कहा गया है कि मौसमी घटनाओं और जलवायु परिवर्तन ने 2020 में पूरे एशिया में प्रभाव डाला, जिससे हजारों लोगों की मौत हुई, लाखों अन्य विस्थापित हो गये और अरबों डॉलर का नुकसान हुआ, जबकि बुनियादी ढांचा और पारिस्थितिकी पर विनाशकारी प्रभाव पड़ा।

casumo नया ग्राहक ऑफर

डिजिटल इकनॉमी में नए टैलेंट की जरूरत होगी. आइए, यहां टॉप रिक्रूटमेंट फर्मों से उन स्किल्‍स के बारे में जानते हैं जो सबसे ज्‍यादा डिमांड में हैं.

ऑनलाइन स्लॉट असली पैसा ब्रिटेन

आपको अपनी स्किल्‍स का पैसा मिलता है. इस बात का पता करें कि आप जैसी स्किल रखने वाले लोगों को बाहर कितनी सैलरी मिल रही है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी
बैकरेट रोड सिंगल क्रैकिंग सॉफ्टवेयर

(योषिता सिंह)संयुक्त राष्ट्र, 27 अक्टूबर (भाषा) संयुक्त राष्ट्र मौसम एजेंसी की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत को चक्रवाती तूफान, बाढ़ और सूखे जैसी मौसमी घटनाओं से औसतन करीब 87 अरब डॉलर का सालाना नुकसान होने का अनुमान है। विश्व मौसम विज्ञान संगठन ने मंगलवार को ‘एशिया में जलवायु की स्थिति,2020’ रिपोर्ट जारी की, जिसमें कहा गया है कि मौसमी घटनाओं और जलवायु परिवर्तन ने 2020 में पूरे एशिया में प्रभाव डाला, जिससे हजारों लोगों की मौत हुई, लाखों अन्य विस्थापित हो गये और अरबों डॉलर का नुकसान हुआ, जबकि बुनियादी ढांचा और पारिस्थितिकी पर विनाशकारी प्रभाव पड़ा।