तीन पत्ती कॅश गेम ऑनलाइन

तीन पत्ती कॅश गेम ऑनलाइन

time:2021-10-28 03:40:22 बुजुर्गों को मिले ज्‍यादा ब्‍याज, एससीएसएस की लिमिट बढ़ाकर ₹50 लाख की जाए Views:4591

यूरोपीय कप खेल जर्मनी तीन पत्ती कॅश गेम ऑनलाइन 188bet मोइ,casumo वेबसाइट,lovebet 2 खातों का एक ही पता,lovebet नकली या असली,lovebet रेसिंग,lovebetक क्वोई,बैकारेट 20 सेमी सॉस पैन,बैकारेट केतली,कैसीनो लॉगिन,बेटिंग जोन गोल्फ,कैसीनो यूरो,सी कैसीनो ऑनलाइन,क्रिकेट 19 लाइट,क्रिकेट नियम,एस्पोर्ट्स केन्या,फ़ुटबॉल 1 आधा समय,फुटबॉल वीजा लॉटरी,जी-शॉक स्पोर्ट घड़ियाँ,फ़ुटबॉल का एक भी खेल कैसे खेलें,किया जा रहा है,जंगल रम्मी प्रमोशन,लाइव कैसीनो जुलाई4,लॉटरी क्लब लॉगिन,लूडो खेलो,ओकासिनो कोर्ट्रिज्को,ऑनलाइन गेम डेवलपमेंट डिग्री,दोस्तों के साथ ऑनलाइन निजी पोकर मुफ्त,परिमच वेबसाइट,पोकर खिलाड़ी अर्थ,री लॉटरी वाइल्ड मनी,रम्मी 0 ऑनलाइन,रम्मीकल्चर प्रधान कार्यालय,स्लॉट मशीन युगियोह कार्ड,स्पोर्ट्स ई यू,एसएस लॉटरी,th.lovebet88,यूईएफए चैंपियंस लीग फुटबॉल खिलाड़ी प्लस अंक,कौन सा फ़ुटबॉल सट्टेबाजी नेटवर्क अच्छा है,21 बजे one,ऑनलाइन पैसे बनाएं facebook,क्रिकेट ओपन,गोवा योजना,तीन पत्ती में,बकरी डांस,बैकारेट करने के लिए कौन सा रास्ता,स्टेटस आर्मी, .बुजुर्गों को मिले ज्‍यादा ब्‍याज, एससीएसएस की लिमिट बढ़ाकर ₹50 लाख की जाए

ज्यादातर रिटायर हो चुके लोग सिर्फ फिक्‍स्‍ड इनकम ऑप्‍शन में निवेश करते हैं. इसका मतलब है कि कम ब्‍याज दरें उनके लिए फायदेमंद नहीं हैं.
31 मार्च को वित्त मंत्रालय ने छोटी बचत स्कीमों के लिए तिमाही ब्याज दरों का एलान किया. कुछ घंटे बाद ही उसने दरों को बहाल कर दिया. सरकार ने पहले ब्याज दरों में बड़ी कटौती की थी. उदाहरण के लिए सीनियर सिटीजन सेविंग्‍स स्‍कीम (एससीएसएस) की दरें 7.4 फीसदी से घटाकर 6.5 फीसदी कर दी गई थीं. पीपीएफ के मामले में दरों का 7.1 फीसदी से घटाकर 6.5 फीसदी किया गया था.

ब्‍याज दरों में कटौती का फैसला वापस होने के बाद एक सामान्‍य धारणा बनी. वह यह थी कि चुनावों को देखते हुए यह फैसला लिया गया. कुछ अर्थशास्त्रियों ने इस फैसले की आलोचना की. उनका कहना था कि ये दरें मार्केट से लिंक हैं. इन्‍हें गिल्‍ट रेट की तर्ज पर घटाना सही है. फिर ब्‍याज की दरें कितनी भी कम क्‍यों न हो जाएं.

सरकार को सुनिश्चित करना चाहिए कि सीनियर सिटीजन को ब्याज दर के मामले में स्पेशल डील मिले. कारण है कि इनके पास इनकम का कोई और जरिया नहीं होता है. अर्थव्यवस्था में ब्याज दरें घट रही हैं. पूंजी को बढ़ाने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली स्कीमों के साथ ब्याज दरों को घटाने में बुराई नहीं है. हालांकि, एससीएसएस को इसमें अपवाद के तौर पर देखना चाहिए.

इसे भी पढ़ें : यूलिप और म्यूचुअल फंड में इन 5 बड़े अंतरों को जान लें, होगा फायदा

एससीएसएस में बुजुर्ग पैसा लगाते हैं. इसका इस्तेमाल चक्रवृद्धि ब्‍याज दर जेनरेट करने के लिए नहीं होता है. न ही दौलतमंद बनने के लिए. अलबत्ता यह इनकम के स्रोत की तरह है. स्‍कीम में निवेश करने की न्यूनतम उम्र 60 साल है. इसमें अधिकतम 15 लाख रुपये लगाया जा सकता है. इसके अलावा इंटरेस्ट इनकम पूरी तरह टैक्सेबल है.

इसे भी पढ़ें : सिप टॉप-अप फैसिलिटी के बारे में यहां जानिए अपने हर सवाल का जवाब

मेरा मानना है कि सीनियर सिटीजन सेविंग्‍स स्‍कीम पर ब्‍याज दर बढ़नी चाहिए. साथ ही इसमें निवेश की लिमिट भी बढ़ाने की जरूरत है. इसके पीछे कई कारण हैं. जहां कम महंगाई और ब्‍याज दरों का इकनॉमिक ग्रोथ पर सकारात्मक असर होता है. वहीं, रिटायर हो चुके लोगों को इसका फायदा नहीं होता है. ये कमाई और उसे बढ़ाने के दौर से निकल चुके होते हैं. ज्यादातर रिटायर हो चुके लोग सिर्फ फिक्‍स्‍ड इनकम ऑप्‍शन में निवेश करते हैं. इसका मतलब है कि कम ब्‍याज दरें उनके लिए फायदेमंद नहीं हैं. सच तो यह है कि इससे उन्‍हें नुकसान होता है. कारण है कि व्‍यक्त‍िगत महंगाई की दर हमेशा औपचारिक महंगाई की दर से ज्‍यादा होती है.

यह विडंबना है कि मार्केट-लिंकिंग की व्यवस्था की बात करने वाले उस वर्ग के लोग हैं जो वास्तव में कभी ऐसे डिपॉजिट पर निर्भर नहीं रहे हैं. इसे अमल में लाने वाले लोग भी वे हैं जो गारंटीशुदा पेंशन पाते हैं. यह महंगाई के साथ बढ़ती रहती है.

(लेखक वैल्‍यू रिसर्च के सीईओ हैं.)

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें
(Disclaimer: The opinions expressed in this column are that of the writer. The facts and opinions expressed here do not reflect the views of www.economictimes.com.)

टॉपिक

एससीएसएससीनियर सिटीजन सेविंग्‍स स्‍कीमबुजुर्गज्‍यादा ब्‍याजब्‍याज दरछोटी बचत स्‍कीमें

ETPrime stories of the day

As Christmas nears, China’s biggest shipper says there’s no end in sight for supply-chain crisis
Logistics

As Christmas nears, China’s biggest shipper says there’s no end in sight for supply-chain crisis

4 mins read
China’s hypersonic missile test may be targeted at the US and the West. But India should be worried.
R&D

China’s hypersonic missile test may be targeted at the US and the West. But India should be worried.

9 mins read
As drones take off under fresh rules, insuring their flight still has a host of teething troubles
Insurance

As drones take off under fresh rules, insuring their flight still has a host of teething troubles

11 mins read

नयी दिल्ली, 27 अक्टूबर (भाषा) रेमंड लिमिटेड का सितंबर, 2021 को समाप्त दूसरी तिमाही का एकीकृत शुद्ध लाभ 56.15 करोड़ रुपये रहा है। रेमंड ने एक नियामकीय सूचना में कहा कि कंपनी को एक साल पहले के जुलाई-सितंबर की अवधि में 136.59 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था। समीक्षाधीन तिमाही के दौरान कंपनी की कुल आय दोगुना होकर 1,583.26 करोड़ रुपये हो गई, जो पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में यह 732.34 करोड़ रुपये थी। इस दौरान कंपनीफ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की बंद हो चुकी स्कीमों के निवेशकों को इस हफ्ते पैसे मिल जाएंगे. छह स्कीमों के निवेशकों को 2,962 करोड़ रुपये इस हफ्ते मिल जाएंगे.वित्तीय लक्ष्‍यों तक जल्दी पहुंचने के लिए इक्विटी या डेट फंड में से किसमें निवेश करें?

शेयरों में निवेश से जुड़े जोखिम के अलावा इंटरनेशनल फंड में निवेश से करेंसी का जोखिम भी जुड़ा होता है. दूसरे देश की मुद्रा के मुकाबले रुपये में कमजोरी और मजबूती का असर आपके रिटर्न पर पड़ता है.नयी दिल्ली, 27 अक्टूबर (भाषा) सरकार ने बुधवार को सभी मंत्रालयों और विभागों से कर्ज में डूबी एयर इंडिया का बकाया तुरंत चुकाने और अब से केवल नकद में टिकट खरीदने को कहा। सरकार ने इस महीने की शुरुआत में एयर इंडिया को टाटा समूह की होल्डिंग कंपनी टैलेस प्राइवेट लिमिटेड को 18,000 करोड़ रुपये में बेचने का फैसला किया है। वित्त मंत्रालय के तहत व्यय विभाग ने 2009 के एक आदेश में कहा था कि एलटीसी सहित हवाई यात्रा (घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दोनों)ओलावृष्टि से बासमती उत्पादकों को फसल का नुकसान, पर्याप्त मुआवजे की मांग की

नयी दिल्ली, 27 अक्टूबर (भाषा) रेमंड लिमिटेड का सितंबर, 2021 को समाप्त दूसरी तिमाही का एकीकृत शुद्ध लाभ 56.15 करोड़ रुपये रहा है। रेमंड ने एक नियामकीय सूचना में कहा कि कंपनी को एक साल पहले के जुलाई-सितंबर की अवधि में 136.59 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था। समीक्षाधीन तिमाही के दौरान कंपनी की कुल आय दोगुना होकर 1,583.26 करोड़ रुपये हो गई, जो पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में यह 732.34 करोड़ रुपये थी। इस दौरान कंपनीसामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.पीएनबी का दूसरी तिमाही का शुद्ध लाभ 78 प्रतिशत बढ़कर 1,105 करोड़ रुपये पर

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
बैकारेट क्रैकिंग सॉफ्टवेयर ट्रायल

फ्रेंकलिन टेंपलटन के इंडियन मैनेजमेंट ने घरेलू कारोबार के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई थी.

करीना फ्री फायर रिडीम कोड

नयी दिल्ली, 27 सितंबर (भाषा) डाबर इंडिया लिमिटेड ने अपनी शिशु देखभाल उत्पाद श्रृंखला का विस्तार करते हुए डायपर श्रेणी में प्रवेश करने की घोषणा की है एक संयुक्त बयान के अनुसार डाबर के 'बेबी सुपर पैंट्स' डायपर को 'बिग सेल डे' वाले दिन ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट पर पेश किया जाएगा। डाबर इंडिया के ई-कॉमर्स कारोबार प्रमुख स्मर्थ खन्ना ने कहा, ‘‘हमारा प्रयास लगातार रहा है कि हम अपने ग्राहकों को कुछ नया और अलग दें। हम इस उत्पाद को लेकर उत्साहित हैं।’’ फ्लिपकार्ट के वरिष्ठ उपाध्यक्ष (सौंर्दय, सामान्य सामान एवं होम) मनीष कुमार ने कहा, ’’शिशु देखभाल

बेटा सिनेमा

अगर आप युवा (20 के पड़ाव में) हैं और रिटायरमेंट के लिए बचत शुरू करना चाहते हैं तो आपका निवेश इक्विटी म्‍यूचुअल फंड में ज्‍यादा होना चाहिए.

रम्मी 8 खिलाड़ी

अधिकतर निवेशक इक्विटी फंड्स में निवेश करने के लिए सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (सिप) को तरजीह देते हैं. हाल के समय में सिप को बहुत अधिक लोकप्रियता मिली है.

स्टेटस इमेज डाउनलोड

नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) में लोगों की दिलचस्पी बढ़ाने की कई कोशिश की जा रही है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी
रम्मी में बिंदु

नयी दिल्ली, 27 अक्टूबर (भाषा) निवेश कंपनी समारा कैपिटल, हैवेल्स फैमिली इन्वेस्टमेंट ऑफिस और गोदरेज फैमिली इनवेस्टमेंट ऑफिस ने बुधवार को एक नई स्वास्थ्य देखभाल कंपनी 'मारेंगो एशिया हेल्थकेयर' की स्थापना की घोषणा की। यह मंच देश में मल्टीस्पेशियल्टी अस्पतालों का संचालन करेगा। एक बयान के अनुसार इन तीनों कंपनियों ने मिलकर इस मंच की स्थापना की है। यह देशभर में मल्टीस्पेशियल्टी अस्पतालों की श्रृंखला का परिचालन करेगा। बयान के अनुसार इस अस्पताल श्रृंखला का उद्देश्य देश में वैश्विक विशेषज्ञता लाना और नैदानिक साझेदारी बनाने पर ध्यान केंद्रित करना है। इन तीनों कंपनियों ने हालांकि मारेंगो एशिया हेल्थकेयर