कैसीनो होटल कोच्चि

कैसीनो होटल कोच्चि

time:2021-10-21 07:37:44 कारें होंगी महंगी, जानिए कितनी बढ़ेंगी कीमतें Views:4591

रमी खाता अर्थ कैसीनो होटल कोच्चि 188bet यूरोप,casumo रीडिंग fc,lovebet 0एनलाइन,lovebet ए नसील गिरीलिरो,lovebet प्लेटफॉर्म,lovebet२०२१,बी ए टी लवबेट,बैकारेट होटल बार,बैकरेट ज़ुआंग जियान ज़ूओ कियान,सट्टेबाजी युक्तियाँ फुटबॉल,कैसीनो के दिन फ्रीस्पीले,कैसीनो डॉट कॉम ऐप,कॉमोन बेटिंग ऐप की समीक्षा,क्रिकेट पी एस एल लाइव,ई-स्पोर्ट्स कमाई,फिशिंग क्लैश बोनस रश,फुटबॉल कौशल,जिन रम्मी पॉइंट सिस्टम,कैसे मकाउ में जुआ खेलने के लिए,आईपीएल जीत,जे की स्पोर्ट्स बार,लाइव कैसीनो fanduel,लॉटरी 9/7/2021,निवेश के बिना लूडो अर्निंग ऐप,भारत में नंबर 1 रम्मी साइट,ऑनलाइन जुआ नेटवर्क,ऑनलाइन पोकर टूर्नामेंट रणनीति,परिमच क्वोरा,पोकर ना ५ कर्ता,प्रतिष्ठित नकद शतरंज,दुनिया पर राज,रम्मीकल्चर प्रतिबंधित राज्य,स्लॉट मशीन रणनीति,खेल भ तिलबुद,स्पोर्ट्सबुक टर्निंग स्टोन,टेक्सास होल्डम परम पोकर,आप पोकर ब्राज़ील,अच्छी प्रतिष्ठा के साथ ऑनलाइन रूले गेम कहां खेलें,जेड स्लॉट,ऑनलाइन जुआ movie,क्रिकेट t10,गोवा न्यूज 365,तीन पत्ती गोल्ड,बकरा फोटो,बैकरेट वीडियो चुआंग और जियान देखें,श्रीलंका cricket team, .कारें होंगी महंगी, जानिए कितनी बढ़ेंगी कीमतें

टाटा मोटर्स और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी कंपनियां पहले ही अप्रैल से दाम बढ़ाने के संकेत दे चुकी हैं.
कार के दाम जल्‍द और बढ़ सकते हैं. इनमें 2-3 फीसदी की बढ़ोतरी हो सकती है. कार बनाने वाली कंपनियां इस बारे में विचार कर रही हैं. कच्‍चे माल की लगातार बढ़ती कीमतों और ऑटो पार्ट्स की किल्‍लत के चलते वे इसके लिए मजबूर हैं. अगर ऐसा हुआ तो हाल की कुछ तिमाहियों में यह लगातार तीसरी बार होगा जब गाड़‍ियों के दाम बढ़ेंगे. पिछली बढ़ोतरी के बाद कारें करीब 4-6 फीसदी और टू-व्‍हीलर्स 8-10 फीसदी महंगे हो चुके हैं.

पिछले तीन महीनों में वाहनों को बनाने में लगने वाले कच्‍चे माल की कीमतें बढ़ी हैं. इससे वाहनों के दाम 10-15 फीसदी तक बढ़े हैं. इन्‍हें बनाने में स्‍टील, एलुमिनियम, रबर से लेकर कीमती धातुओं तक का इस्‍तेमाल होता है. पॉलीमर से लेकर रबर तक के भाव 10-60 फीसदी चढ़े हैं. सेमीकंडक्‍टर को लेकर डिमांड और सप्‍लाई में विसंगति के कारण भी इनपुस्‍ट कॉस्‍ट बढ़ी है.

इसे भी पढ़ें : टर्म इंश्‍योरेंस पॉलिसी हो सकती है महंगी, यह है वजह

तीन कंपनियों ने बताया कि चिप मैन्‍यूफैक्‍चरर्स को भारतीय ऑटो ओईएम (ओरिजनल इक्विपमेंट मैन्‍यूफैक्‍चरर्स) से कीमत बढ़ाने के अनुरोध मिलने लगे हैं. सप्लाई की शॉर्टैज और मांग बढ़ने से 2021 में चिप की कीमतें 4-6 फीसदी तक बढ़ सकती हैं. वहीं, सप्‍लाई की किल्‍लत अगले 2-3 तिमाहियों तक बनी रह सकती है.

टाटा मोटर्स और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी कंपनियां पहले ही अप्रैल से दाम बढ़ाने के संकेत दे चुकी हैं. इन कंपनियों ने पिछले 6 महीनों में दो बार दाम बढ़ाए हैं. आयशर मोटर के स्‍वामित्‍व वाली रॉयल एनफील्‍ड ने भी कीमतों में 3-5 फीसदी बढ़ोतरी का अंदेशा जताया है. जबकि 2021 की शुरुआत में पहले ही यह इतनी बढ़ोतरी कर चुकी है.

इसे भी पढ़ें : फास्‍टैग नहीं लिया है? परेशान न हों, कुछ ही मिनट में गाड़ी में लग जाएगा

क्रेडिट सुईस के अनुसार, यह सही है कि मारुति सुजुकी ने प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले सबसे बाद में दाम बढ़ाने का एलान किया. लेकिन, 18 जनवरी से प्रभावी सभी मॉडलों पर 34,000 रुपये तक की बढ़ोतरी 2.7 फीसदी के बराबर थी. यह पिछले पांच साल में कंपनी की ओर से की गई सर्वाधिक बढ़त है.

महिंद्रा एंड महिंद्रा के ईडी राजेश जेजुरिकर ने आगाह किया था कि अगर इनपुट कॉस्‍ट में नरमी नहीं आई तो वित्‍त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में मजबूरन दाम बढ़ाने पड़ेंगे. रॉयल एनफील्‍ड के एमडी विनोद दसारी ने कहा कि कंपनी जनवरी में पहले ही दाम बढ़ा चुकी है. अगले वित्‍त वर्ष से दोबारा वह कीमतों में करीब 3-5 फीसदी बढ़ोतरी के बारे में सोच रही है.

सबसे बड़ी समस्‍या स्‍टील की कीमतों में जोरदार तेजी है. पिछले चार महीनों में इसके दाम 36,000 रुपये प्रति टन से उलछकर 58,000 रुपये प्रति टन पर पहुंच गए हैं. वहीं, पेट्रोल-डीजल, हाईवे टोल और टायर के दाम बढ़ने से लॉजिस्टिक्‍स और सप्‍लाई की कॉस्‍ट बढ़ी है.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टॉपिक

कार की कीमतेंबढ़ेंगे दामइनपुट कॉस्‍टकच्‍चा मालऑटो पार्ट्स

ETPrime stories of the day

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’
Strategy

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’

8 mins read
Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle
Aviation

Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle

10 mins read
Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.
Banking

Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.

15 mins read

फरवरी 2021 में टीकेएम ने 14,075 वाहनों की बिक्री की थी. इस तरह घरेलू बाजार में उसने फरवरी 2020 के मुकाबले 36 फीसदी ग्रोथ दर्ज की थी.रीइंश्‍योरेंस कंपनियों के रेट जीवन प्रत्‍याशा यानी लाइफ एक्‍सपेक्‍टेंसी पर आधारित होते हैं. यह एक लंबी अवधि का ट्रेंड होता है.ईटीएफ के बारे में यहां जानिए अपने हर सवाल का जवाब

साल में कम से कम एक बार निवेश की समीक्षा जरूर करें और उसे दोबारा बैलेंस करें.क्‍या इस वैलेंटाइन डे पर अपने पाटर्नर को खुश करने के लिए आपने गिफ्ट सेलेक्‍ट कर लिया है? नहीं, तो यहां हम आपको ट्रेडिशनल गिफ्ट से अलग हटकर कुछ ऐसे तोहफों के बारे में बता रहे हैं जो शायद आपके साथी को खूब पसंद आए.बेटी की उम्र 8 साल है, सुकन्या समृद्धि और पीपीएफ में से किसमें निवेश करना फायदेमंद?

रीइंश्‍योरेंस कंपनियों के रेट जीवन प्रत्‍याशा यानी लाइफ एक्‍सपेक्‍टेंसी पर आधारित होते हैं. यह एक लंबी अवधि का ट्रेंड होता है.योनो सुपर सेविंग डेज का पहला चरण फरवरी में संपन्‍न हुआ था. इस दौरान भी ग्राहकों को छूट पर 4 दिन के लिए खरीदारी का मौका मिला था. यह 4 फरवरी से 7 फरवरी तक चला था.मुझे महीने में 40,000 रुपये म्‍यूचुअल फंडों में निवेश करना है, किन स्‍कीमों में लगाऊं?

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
खुश किसान केमान

सुकन्या समृद्धि स्‍कीम में बेटी के जन्‍म के बाद उसके नाम पर खाता खुलवाया जा सकता है. उसके 10 साल का होने तक ऐसा किया जा सकता है.

ऑनलाइन लॉटरी टिकट खरीदें

बेटी की शिक्षा और शादी के लिए माता-पिता पैसा जोड़ पाएं, इस मकसद के साथ यह स्‍कीम लॉन्‍च की गई थी.

lovebet ओ snai

कई लोग छु‍ट्टी मनाने के लिए अब बाहर निकलने लगे हैं. यह अलग बात है कि कोविड-19 का डर अब भी बना हुआ है. ऐसे में सुरक्षा की अनदेखी करना सही नहीं है. यहां हम ऐसे कुछ गैजेट्स और एक्‍सेसरीज के बारे में बता रहे हैं जो आपकी ट्रिप को सुरक्षित बनाने में मदद करेंगे.

स्टेटस ट्रेन

पिछले 10 साल में ओएनजीसी अपने उत्पादन में कोई बड़ी बढ़ोतरी करने में नाकामयाब रही है.

लाइव कैसीनो डीलर

चूंकि एफओएफ दूसरी म्‍यूचुअल फंड स्‍कीमों में निवेश करते हैं. लिहाजा, डुप्‍लीकेशन की कॉस्‍ट आ सकती है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी