कैसीनो दा फिगुइरा

कैसीनो दा फिगुइरा

time:2021-10-28 04:06:48 अच्‍छे इंक्रीमेंट के लिए अभी दो साल करना पड़ेगा इंतजार : एक्‍सपर्ट्स Views:4591

थाई लॉटरी वीडियो कैसीनो दा फिगुइरा 188bet खो,casumo यूके लॉगिन,lovebet 11,lovebet एस्पोर्ट्स,lovebet क्विक्सास,lovebet-आ,बैकारेट 007,बैकारेट पंप नहीं है,बैकारेट के लिखने का तरीका,बेटिंग व्हाट्सएप ग्रुप लिंक,कैसीनो ड्राइव ब्रॉडबीच,टेक्सास में कैसीनो,क्रिकबज,क्रिकेट उद्धरण अंग्रेजी में,एस्पोर्ट्स हेडफोन ए1,फिशिंग रशफोर्ड लेक एनवाई,फुटबॉल टी-शर्ट ऑनलाइन दुकान,ग्लोबल रियल मनी ड्रैगन टाइगर,कैसे खोलें,आईपीएल जोमैटो,जंगल रम्मी मुफ्त डाउनलोड,गोवा में लाइव कैसीनो,लॉटरी बीसी,लूडो आईडी,o फुटबॉल की भविष्यवाणी आज और आज रात,ऑनलाइन गेम बोर्ड मेकर,ऑनलाइन पोकर एक्सबॉक्स,परिमच यूके रिव्यू,पोकर ऑनलाइन qq ceme,री कैसीनो टिवर्टन,नियम शून्य उत्पाद,रम्मीकल्चर नकली,स्लॉट मशीन विकिपीडिया,स्पोर्ट्स दा रोडडा,स्पोर्ट्सबुक्स,टेक्सस होल्डम यूडा गेम्स,यूईएफए चैंपियंस लीग फुटबॉल गोल्डन बूट्स क्रिस्टियानो रोनाल्डो,किस सट्टेबाज को छूट है,21 बजे dj,ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए video,क्रिकेट इमेज,गोवा भाषा,तीन पत्ती प्रो,बकरी ऑनलाइन,बैकारेट quotes,स्टेटस अच्छा वाला, .अच्‍छे इंक्रीमेंट के लिए अभी दो साल करना पड़ेगा इंतजार : एक्‍सपर्ट्स

इस साल इंक्रीमेंट घटकर 3.6 फीसदी पर पहुंच गए. 2019 में यह आंकड़ा 8.6 फीसदी रहा था.
अच्‍छी वेतनवृद्धि के लिए आपको अभी कम से कम दो साल इंतजार करना पड़ सकता है. 2021 और 2022 में सिंगल डिजिट में इंक्रीमेंट रहने के आसार हैं. इस मोर्चे पर स्थितियों के सामान्‍य होने में कुछ वक्‍त लग सकता है. जानकारों ने इस तरह का अनुमान जाहिर किया है.

कंपनसेशन एक्‍सपर्ट्स के अनुसार, 2022 से पहले इंक्रीमेंट के सामान्‍य होने के आसार नहीं हैं. डेलॉयट इंडिया वर्कफोर्स और इंक्रीमेंट ट्रेंड्स सर्वे के मुताबिक, इस साल इंक्रीमेंट या वेतन में बढ़ोतरी घटकर 3.6 फीसदी पर पहुंच गई. 2019 में यह 8.6 फीसदी रही थी. वेतनवृद्धि में भले अभी समय लगे. लेकिन, कंपनियां मेडिकल, इंश्‍योरेंस और होम ऑफिस के लिए इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर इत्‍यादि मुहैया कराकर नए तरह के बेनिफिट दे रही हैं.

एयॉन कंसल्‍टिंग इंडिया में सीईओ (परफॉर्मेंस रिवॉर्ड्स एंड ऑर्गनाइजेशन एफेक्‍टिवनेस) नितिन सेठी ने कहा, ''जहां तक विभिन्‍न सेक्‍टरों में वेतनवृद्धि का सवाल है तो शेष 2020 और 2021 सुस्‍त रहने वाले हैं.'' उन्‍होंने कहा कि 2022 से आर्थिक गतिविधियां दोबारा रफ्तार पकड़ सकती हैं. इससे बोनस और इंसेंटिव का दौर फिर शुरू हो जाएगा.

इसे भी पढ़ें : एसबीआई इस साल 14,000 लोगों की भर्ती करेगा

सैलरी कब अपने स्‍तर पर लौटेंगी, यह आर्थिक गतिविधियों के बहाल होने पर निर्भर करेगा. डेलॉयट के सर्वे में शामिल 75 फीसदी संस्‍थानों ने मौजूदा अनिश्चितता को देखते हुए वेतनवृद्धि में किसी तरह के अनुमान जाहिर करने से इंकार कर दिया.

इस साल नियमित वेतनवृद्धि करने वाली कंपनियां तीन तिमाहियों के असंतोषजनक प्रदर्शन के साथ अगले वित्‍त वर्ष में प्रवेश करेंगी. ये वेतनवृद्धि को लेकर ज्‍यादा मंथन करेंगी.

इसे भी पढ़ें : आईटी पेशेवरों के लिए खुशखबरी, कंपनियों में एक लाख से ज्‍यादा नौकरी के मौके

डेलॉयट इंडिया में पार्टनर आनंदोरूप घोष ने कहा कि इस साल जिन कंपनियों ने इंक्रीमेंट नहीं दिया है, वे भी इस मोर्चे पर कदम उठाने में देर कर सकती हैं. वे अपने कोर बिजनेस के प्रदर्शन में सुधार की साफ तस्‍वीर आने के बाद ही इस बारे में कोई फैसला लेंगी.

master5
master6

बढ़ सकते हैं बेनिफिट
अगले दो साल में कंपनियों का फोकस कंपनसेशन के बजाय बेनिफिट बढ़ाने पर हो सकता है. ज्‍यादातर कंपनियों के लिए वर्क-फ्रॉम होम अब 'न्‍यू नॉर्मल' बन गया है. ऐसे में ब्रॉडबैंड, फर्नीचर, स्‍टेशनरी इत्‍यादि के लिए अलाउंस के तौर पर बेनिफिट बढ़ सकते हैं. इन्‍हें कंपनसेशन पैकेज का हिस्‍सा बनाया जा सकता है.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

इंक्रीमेंटडेलॉयल इंडियासैलरीएक्‍सपर्टसर्वेवेतनवृद्ध‍ि

ETPrime stories of the day

As Christmas nears, China’s biggest shipper says there’s no end in sight for supply-chain crisis
Logistics

As Christmas nears, China’s biggest shipper says there’s no end in sight for supply-chain crisis

4 mins read
China’s hypersonic missile test may be targeted at the US and the West. But India should be worried.
R&D

China’s hypersonic missile test may be targeted at the US and the West. But India should be worried.

9 mins read
As drones take off under fresh rules, insuring their flight still has a host of teething troubles
Insurance

As drones take off under fresh rules, insuring their flight still has a host of teething troubles

11 mins read

पहले चरण में 31,277 को जिलों का आवंटन हो गया है. इसमें से 15,933 टीचर सामान्‍य कैटेगरी के हैं. 8,513 अन्‍य पिछड़ा वर्ग, 6,615 अनुसूचित जाति और 215 अनुसूचित जनजाति के हैं.नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) में लोगों की दिलचस्पी बढ़ाने की कई कोशिश की जा रही है.फ्रैंकलिन टेम्पलटन एमएफ से आपको अपना निवेश कब निकालना चाहिए?

ब्‍याज दरों में कटौती का फैसला वापस होने के बाद एक सामान्‍य धारणा बनी. वह यह थी कि चुनावों को देखते हुए यह फैसला लिया गया.भारतीय नियामकों का ऐसी करेंसी को लेकर रुख स्पष्ट नहीं है. उन्‍होंने साफ-साफ कुछ भी नहीं कहा है कि भारतीय इनमें ट्रेड करें या नहीं.एनालिटिक्‍स और डेटा साइंस के क्षेत्र में प्रोफेशनल्‍स की भारी मांग, 93,500 से अधिक पद खाली

एनालिटिक्‍स संबंधी जॉब्‍स निकालने वाली कंपन‍ियों में एक्‍सेंचर, एमफेसिस, कग्निजेंट टेक्‍नोलॉजी सॉल्‍यूशन, केपजेमिनी, इंफोसिस, टेक महिंद्रा, आईबीएम इंडिया, डेल, एचसीएल टेक्‍नोलॉजी और कोलेबरा टेक्‍नोलॉजी प्रमुख हैं.ब्‍याज दरों में कटौती का फैसला वापस होने के बाद एक सामान्‍य धारणा बनी. वह यह थी कि चुनावों को देखते हुए यह फैसला लिया गया.यूपी : 31,000 टीचरों की भर्ती की प्रक्रिया शुरू

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
असली पैसे का खेल hdfc bank

वित्त वर्ष 2020-21 में घरेलू म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री का एसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) 41 फीसदी बढ़कर 31.43 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचई गई.

मोबाइल रम्मी साइट

फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की बंद हो चुकी स्कीमों के निवेशकों को इस हफ्ते पैसे मिल जाएंगे. छह स्कीमों के निवेशकों को 2,962 करोड़ रुपये इस हफ्ते मिल जाएंगे.

ऑनलाइन अकाउंट कैसे खोलें

अधिकतर निवेशक इक्विटी फंड्स में निवेश करने के लिए सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (सिप) को तरजीह देते हैं. हाल के समय में सिप को बहुत अधिक लोकप्रियता मिली है.

लॉटरी 7 स्टार

जून में गिरावट के बाद पिछले दो महीनों में एक्टिव जॉब ओपनिंग्‍स में 74 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई है. कंपनियों को कोविड की महामारी खत्‍म होने के बाद प्रतिस्‍पर्धा बढ़ने की उम्‍मीद है. वे इसके लिए खुद को तैयार रखना चाहती हैं.

हैप्पी न्यू ईयर ऑफ द पिग

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने बताया कि कोविड-19 महामारी के कारण अब तक परीक्षा आयोजित नहीं कराई जा सकी थी.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी